एक दिवस हिंदी का : बाकी दिन तो उसे ‘सोना’ ही है

View Image in New Windowमनोज जैसवाल :यदि मेरा भाषा ज्ञान दुरुस्त है, तो सूर्योदय से सूर्यास्त के पीरियड यानी काल को हिंदी में दिवस कहते हैं। वैसे तो सभी दिवस तकनीकी रूप से एक समान होते हैं, पर अपवाद स्वरूप सरकार द्वारा कुछेक विशेष दिवस नामित हैं। जनवरी के गणतंत्र दिवस से शुरू ताजा बीता शिक्षक दिवस सरकार की शुद्ध उपज है। इस बीच शहीद दिवस, मजदूर दिवस, स्वतंत्रता दिवस इत्यादि अपनी उपस्थिति ऑलरेडी दर्ज करा चुके हैं।
एक दिवस और है-हिंदी दिवस, जो सितंबर मास में भरपूर सितम ढाता है कार्य-व्यवहार और बुखार की भाषा अंग्रेजी पर। निज भाषा उन्नति अहै की भावुकता की आड़ में इस दिन राष्ट्रभाषा का दुपट्टा अपने मातहतों के गले में जबरिया लपेट देती है सरकार। दो-चार बैनर पहले से ही कहने लगते हैं हिंदी दिवस (वैसे हिंदी सप्ताह या हिंदी पखवाड़ा भी होते हैं और इनके बैनर भी आपको दिख जाएंगे)। इन दिनों हिंदी की जन्माष्टमी मनाई जाती है। सज-संवर उठती है हिंदी। सर्वत्र जय-जय। तदुपरांत अगले बरस तू जल्दी आ वाले भाव के साथ अंग्रेजी के समुद्र में विसर्जन।
दफ्तरों में हिंदी की धूम। हिंदी किताबों का मेला, प्रतियोगिताओं का रेला, हिंदी के उत्कर्ष के लिए कवि सम्मेलन। लगे हाथ मुशायरा भी। पत्रम पुष्पं अलहदा। सरकारी कामकाज में हिंदी की उपेक्षा पर टेसुए इसी दिन बहाए जाते हैं। पूरे साल अंग्रेजी के स्विमिंग पूल में तैराकी करने वाले इस दिन हिंदी के पोखर में डुबकी अवश्य लगाते हैं। खूंटी पर टंगी रह जाती है टॉवेल। बदन अंगोछे से पोंछा जाता है। आज भारत-भारती की भाषा हिंदी के प्रति अपनी विनम्र आदरांजलि व्यक्त करने का दिन है। हिंदी राजभाषा भी है और जनभाषा भी है। हिंदी का अपना समृद्ध इतिहास रहा है। हिंदी के द्वारा सारे भारत को एक सूत्र में पिरोया जा सकता है. महर्षि दयानंद की यह उक्ति हिंदी की चिर प्रासंगिकता को लक्ष्य करती है।

जब हम हिंदी भाषा के उद्भव एवं विकास के संबंध में पड़ताल करते हैं तो कई दिलचस्प तथ्य हमारे हाथ लगते हैं। हिंदी शब्द की उत्पत्ति सिंधु से जुड़ी हुई है। सिंधु नदी के आसपास का क्षेत्र सिंध प्रदेश कहलाता है। यही शब्द ईरानियों के संपर्क में आकर हिंदू या हिंद हो गया। हिंद से ही हिंदीक बना है, जिसका अर्थ है हिंद का। यूनानी शब्द इंडिका या अंग्रेजी शब्द इंडिया इसी हिंदीक की ही उपज है।

हिंदी साहित्य का प्रारंभ 1000 ईस्वी के आसपास माना जाता है। इससे पूर्व का हिंदी साहित्य अपभ्रंश में है, जिसे हिंदी की पूर्व पीठिका माना जा सकता है। 1500 ईस्वी के आसपास हिंदी स्वतंत्र रूप से विकसित हुई और हिंदी में लेखन का प्रचलन बढ़ा।

हिंदी पर शुद्धतावाद के निंदनीय आरोप लगते रहे हैं। आरोप लगाने वाले कृपया ध्यान दें कि सांस्कृतिक संश्लेष न केवल भारतीय संस्कृति बल्कि हिंदी भाषा की भी सबसे बड़ी विशेषता है और उसने विश्व की अनेक भाषाओं की शब्दावली को आत्मसात किया है।

मुगलों के भारत आगमन के पश्चात हिंदी के सौष्ठव में आमूलचूल परिवर्तन हुआ। मुगलों की भाषिक संस्कृति का सीधा प्रभाव हिंदी पर पड़ा, जिसके फलस्वरूप फारसी के लगभग 3500 शब्द, अरबी के 2500 शब्द, पश्तो के 50 शब्द तथा तुर्की के 125 शब्द हिंदी भाषा की शब्दावली में शामिल हुए।

ठीक इसी प्रकार अंग्रेजों सहित यूरोपियन साम्राज्यवादियों के भारत आगमन के बाद कई यूरोपीय भाषाओं के शब्द हिंदी का हिस्सा बने। कठिन परिस्थितियों के बावजूद हिंदी लगातार समृद्ध हो रही थी। हिंदी ने कई देशज शब्दों को भी अपनी मुख्यधारा में समाहित कर लिया। इससे उसका अभिव्यक्ति पक्ष और पुष्ट हुआ।

हिंदी में रचे गए उच्च कोटि के साहित्य को विश्व पटल पर प्रशंसा मिली। भारत को एक सूत्र में पिरोने की बात की जाए तो गुलामी के दिनों हिंदी ने यह भूमिका भी बखूबी निभाई थी। महात्मा गांधी स्वयं गुजरात से थे और वे अनेक वर्ष विदेश में रहे थे, लेकिन उन्होंने हिंदी और हिंदुस्तानी पर हमेशा बल दिया। हिंद, हिंदी और हिंदुस्तान एक-दूसरे के पर्याय बन गए थे। आज एक स्वतंत्र भारत के नागरिक होने के हमारे गौरव में हिंदी की अस्मिता का भी एक बड़ा योगदान है।

लेकिन यह देखकर वेदना होती है कि हमारी हिंदी को लगातार हाशिये पर धकेला जा रहा है। वैश्वीकरण की आड़ में विश्व भाषा का आग्रह पुख्ता हुआ है। मैं इसका विरोधी नहीं, लेकिन यह आग्रह जिस तरह हमारी भाषा की अस्मिता पर लगातार प्रहार कर रहा है, उससे जरूर मन को ठेस पहुंचती है।

दुनियाभर के देश अपनी-अपनी भाषाओं की विलक्षणता का उत्सव मनाते हैं, लेकिन अपनी ही राष्ट्रभाषा के प्रति ऐसा पूर्वग्रहग्रस्त हेय व्यवहार भारत के अलावा और कहीं देखने को नहीं मिलेगा। वर्तमान में हिंदी की दुर्दशा के लिए हिंदी पट्टी भी कम जिम्मेदार नहीं है, जिसने अपनी भाषिक संस्कृति के विकास में अपेक्षित रुचि नहीं ली।

यही वजह रही कि हिंदीतर प्रदेशों में अपनी राष्ट्रभाषा के प्रति विद्वेष के दृश्य देखे जा सकते हैं। हमें यह समझना होगा कि हिंदी हाशिये की भाषा नहीं है, वह किसी एक वर्ग या क्षेत्र का संस्कार नहीं है, वह हमारी राष्ट्रभाषा है और राष्ट्रभाषा की एक सर्वमान्य स्वीकृति होती है, होनी चाहिए। ऐसा होगा तो ही हिंदी हमारी बिंदी यानी हमारा अलंकार और हमारा आभूषण बन पाएगी।
इस पोस्ट का शार्ट यूआरएल चाहिए: यहाँ क्लिक करें। Sending request...
Comment With:
OR
The Choice is Yours!

3 कमेंट्स “एक दिवस हिंदी का : बाकी दिन तो उसे ‘सोना’ ही है”पर

  1. सुन्दर पोस्ट धन्यबाद.

    ReplyDelete
  2. यह देखकर वेदना होती है कि हमारी हिंदी को लगातार हाशिये पर धकेला जा रहा है।

    ReplyDelete

Widget by:Manojjaiswal
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Online Marketing
Praca poznań w Zarabiaj.pl
 

Blog Directories

क्लिक >>

About The Author

Manoj jaiswal

Man

Behind

This Blog

Manoj jaiswal

is a 56 years old Blogger.He loves to write about Blogging Tips, Designing & Blogger Tutorials,Templates and SEO.

Read More.

ब्लॉगर द्वारा संचालित|Template Style by manojjaiswalpbt | Design by Manoj jaiswal | तकनीक © . All Rights Reserved |