आइये जानते हैं अल्ट्रा एचडी टीवी के बारे में

आइये जानते हैंअल्ट्रा एचडी टीवी के बारे में नोज जैसवाल : सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार। मेरी हर चंद कोशिश रहती है, कि आपको नित नई एंव उपयोगी जानकारियां अपने इस ब्लॉग के माध्यम से मिलती रहें। इसी क्रम में आज की पोस्ट में मैं आपको जानकारी दूँगा। 'आइये जानते हैं नए जमाने के नए अल्ट्रा एचडी टीवी के बारे में' टेलीविजन और इंटरनेट के जन्म के बाद बीते तीन दशक के दौरान इनमें काफी बदलाव हुए हैं। टीवी, कंप्यूटर, टैबलेट, लैपटॉप या मोबाइल की स्क्रीन पर दिखने वाले वीडियो या स्टिल इमेज की पिक्चर क्वॉलिटी और उनका साइज यूजर्स की प्रमुख मांग बन गया है।


अब डिस्प्ले डिवाइसेज के निर्माताओं के सामने भविष्य की तकनीक को अपनाते हुए सबसे ज्यादा क्लियर पिक्चर दिखाने वाली डिस्प्ले यूनिट ग्राहकों तक पहुंचाने की चुनौती खड़ी हो गई है। हालांकि आज भी भारत में अधिकांश घरों में सामान्य सीआरटी टीवी ही मौजूद हैं।

इसके बाद एलसीडी, फिर प्लाज्मा, फिर एलईडी, फिर स्मार्ट और फिर फुल एचडी और फिर थ्रीडी एलईडी टीवी का नाम आता है। देश में अभी भी फुल एचडी और थ्रीडी देखने वाले बहुत कम दर्शक हैं।

तकनीक की हर पल बदलती दुनिया में अल्ट्रा एचडी को लॉन्च करना कंपनियों की मजबूरी बन गई है। टीवी बनाने वाली प्रमुख कंपनियों ने बीते दिनों में अल्ट्रा एचडी टीवी लॉन्च किए, जो सामान्य या फिर कहें अमीरों के भी सबसे उच्च वर्ग की ही पहुंच में ही हैं। लेकिन भारतीय बाजार में भी अब अल्ट्रा एचडी टीवी ने अपनी पहुंच बना ली है।

अल्ट्रा एचडी

इसकी शुरुआत 4K (फोरK या चार हजार) पिक्सल से होती है। सामान्य टीवी में रेजोल्यूशन को मापने के लिए वर्टिकल पिक्सल (लंबवत) को मापा जाता है। उदाहरण के रूप में 1920x1080 रेजोल्यूशन की टीवी में 1080 पी वर्टिकल आंकड़े बताता है।

जबकि अल्ट्रा एचडी टीवी में रेजोल्यूशन के लिए पिक्सल का वर्टिकल की जगह हॉरिजेंटल मेजरमेंट (क्षैतिज माप) किया जाता है। मतलब ऐसी डिस्प्ले स्क्रीन, जिसमें 3840x2160 (1920 x1080का दोगुना) पिक्सल हों। इसी को कहते हैं फोरK(4K)। इसका पूरा नाम क्वॉड फुल एचडी या क्यूएफएचडी है।

अल्ट्रा एचडी 8K रेजोल्यूशन तक आता है। इसमें 7680x4320 पिक्सल मौजूद होते हैं। इस क्वालिटी की पिक्चर में आपको इतनी छोटी सी भी डिटेल साफ दिखाई देगी, जो सामान्यतः आपने सोची भी नहीं होगी। जैसे एक लाल चींटी की आंख या फिर मच्छर के हिलते हुए पंख भी आपको साफ दिखाई देते हैं।

क्यों खास है अल्ट्रा


थ्रीडी और स्मार्ट टीवी के बेहतर गुण।

पिक्चर क्वालिटी की बेहतर क्षमता।

गेमिंग के लिए एक वक्त में बिना स्पिलिट स्क्रीन के दो लोगों के खेलने के लिए ड्युअल विजिबिलिटी।

हर फॉर्मेट की मूवी या वीडियो देखने की सुविधा।

वाईडाई यानी वायरलेस डिस्प्ले यानी बिना तार के वीडियो देखने की सुविधा।

किसी भी टीवी में सबसे बेहतर साउंड क्वॉलिटी की सुविधा।

टीवी और कितने!
वक्त के साथ टेलीविजन के स्वरूप में भी बदलाव आया है। सबसे पहले सामान्य सीआरटी (कैथोड रे ट्यूब) टीवी, फिर एलसीडी (लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले), प्लाज्मा, एलईडी (लाइट एमिटिंग डायोड), थ्री-डी एलईडी (थ्री डायमेंशनल) और स्मार्ट टीवी समेत टेलीविजन के कई रूप सामने आ चुके हैं।

इसके बाद एचडी (हाई डेफिनिशन) रेडी टीवी के रूप में सामने आया। जिसमें एचडी वीडियो को देखने का विकल्प ग्राहकों के सामने सामान्य प्लाज्मा, एलसीडी टीवी में देखने को मिला। इसके बाद फुल एचडी यानी ऐसा एलसीडी या एलईडी टीवी, जिसमें पूरा हाई डेफिनिशन वीडियो-स्टिल इमेज देखा जा सके, लॉन्च किए गए।

फुल एचडी टीवी यानी 1920x1080 पिक्सल डिस्प्ले को बिना किसी रुकावट के दिखाने वाला यूनिट, जो फिलहाल अब तक की सबसे क्लियर, क्वालिटी ओरिएंटेड पिक्चर दिखाने में सक्षम माना जाता है। यहां यह बताना बहुत जरूरी है कि 1920 x1080 यानी जिसे 1080पी या फुल एचडी के नाम से जाना जाता है, वास्तव में 1080 पिक्सल का वर्टिकल आंकड़ा है।

अब तक के एचडी डिस्प्ले में रेजोल्यूशन को मापने के लिए वर्टिकल पिक्सल को ही मापा जाता है। 1080 पी से पहले 480पी या 720पी को क्लिएरटी के मामले में बहुत बेहतर माना जाता था। लेकिन 1080पी के आने के बाद यह सभी पैमाने बीते दिनों की बात हो गए।
क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए !!
इस पोस्ट का शार्ट यूआरएल चाहिए: यहाँ क्लिक करें। Sending request...
Comment With:
OR
The Choice is Yours!

31 कमेंट्स “आइये जानते हैं अल्ट्रा एचडी टीवी के बारे में ”पर

  1. bahut sunder! dhanyavaad,

    ReplyDelete
  2. Grat Article Sir Thanks

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग पर वाकई रोचक जानकारियां मिलती है आपको धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. अच्छी जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  5. नित नई खोज के साथ इन गेज्टों को अपटूडेट रखना टेड़ी खीर है ... अच्छी जानकारी ...

    ReplyDelete
  6. रोचक जानकारी मनोज जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. आपके ब्लॉग पर वाकई रोचक जानकारियां मिलती है मनोज जी धन्यवाद.

    ReplyDelete
  8. अच्छी जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  9. अच्छी जानकारी

    ReplyDelete
  10. वाकई रोचक जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर जानकारी ,मनोज जी. आभार.
    नई पोस्ट : मेघ का मौसम झुका है

    ReplyDelete
  12. अच्छी जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  13. अच्छी जानकारी !!

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्‍छा है।

    ReplyDelete
  15. आपके ब्लॉग पर वाकई रोचक जानकारियां मिलती है आपको धन्यवाद.

    ReplyDelete
  16. वाकई अच्छी जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  17. आदरणीय , मनोज भाई बहुत काम की व महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने , धन्यवाद
    " जै श्री हरि: "

    ReplyDelete
  18. रोचक जानकारी...

    ReplyDelete
  19. उपयोगी जानकारी भरा लेख मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर जानकारी ,मनोज जी. आभार.

    ReplyDelete
  21. बहुत काम की व महत्वपूर्ण जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  22. bahut sunder article manoj ji thanks

    ReplyDelete
  23. अच्छी जानकारी मनोज जी थैंक्स.

    ReplyDelete
  24. अच्छी जानकारी !!

    ReplyDelete
  25. bahut dino baad aapke blog par aaya hu to ek sath bahut saari post padne ko mili

    ReplyDelete

Widget by:Manojjaiswal
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Online Marketing
Praca poznań w Zarabiaj.pl
 

Blog Directories

क्लिक >>

About The Author

Manoj jaiswal

Man

Behind

This Blog

Manoj jaiswal

is a 56 years old Blogger.He loves to write about Blogging Tips, Designing & Blogger Tutorials,Templates and SEO.

Read More.

ब्लॉगर द्वारा संचालित|Template Style by manojjaiswalpbt | Design by Manoj jaiswal | तकनीक © . All Rights Reserved |